Durga Saptashti Chapter 6 – श्री दुर्गा सप्तशती छठा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 6 – श्री दुर्गा सप्तशती छठा अध्याय

श्री दुर्गा सप्तशती- छठा अध्याय

धूम्रलोचन वध

महर्षि मेधा ने कहा-

देवी की बात सुनकर दूत क्रोध में भरा हुआ वहाँ से असुरेन्द्र के पास पहुँचा और सारा वृतान्त उसे कह सुनाया। दूत की बात सुन असुरेन्द्र के क्रोध का पारावर न रहा और उसने अपने सेनापति धूम्रलोचन से कहा-धूम्रलोचन! तुम अपनी सेना सहित शीघ्र वहाँ जाओ और उस दुष्टा के केशों को पकड़कर उसे घसीटते हुए यहाँ ले आओ। यदि उसकी रक्षा के लिए कोई दूसरा खड़ा हो, चाहे वह देवता, यक्ष अथवा गन्धर्व ही क्यों न हो, उसको तुम अवश्य मार डालना।

महर्षि मेधा ने कहा-

शुम्भ के इस प्रकार आज्ञा देने पर धूम्रलोचन साठ हजार राक्षसों की सेना को साथ लेकर वहाँ पहुँचा और देवी को देख ललकार कर कहने लगा-’अरी तू अभी शुम्भ और निशुम्भ के पास चल! यदि तू प्रसन्नता पूर्वक मेरे साथ न चलेगी तो मैं तेरे केशों को पकड़ घसीटता हुआ तुझे ले चलूँगा।’

देवी बोली-

‘असुरेन्द्र का भेजा हुआ तेरे जैसा बलवान यदि बलपूर्वक मुझे ले जावेगा तो ऎसी दशा में मैं तुम्हारा कर ही क्या सकती हूँ?’

महर्षि मेधा ने कहा-

ऎसा कहने पर धूम्रलोचन उसकी ओर लपका, किन्तु देवी ने उसे अपनी हुंकार से ही भस्म कर डाला। यह देखकर असुर सेना क्रुद्ध होकर देवी की ओर बढ़ी, परन्तु अम्बिका ने उन पर तीखें बाणों, शक्तियों तथा फरसों की वर्षा आरम्भ कर दी, इतने में देवी का वाहन भी अपनी ग्रीवा के बालों को झटकता हुआ और बड़ा भारी शब्द करता हुआ असुर सेना में कूद पड़ा, उसने कई असुर अपने पंजों से, कई अपने जबड़ों से और कई को धरती पर पटककर अपनी दाढ़ों से घायल कर के मार डाला, उसने कई असुरों के अपने नख से पेट फाड़ डाले और कई असुरों का तो केवल थप्पड़ मारकर सिर धड़ से अलग कर दिया।

कई असुरों की भुजाएँ और सिर तोड़ डाले और गर्दन के बालों को हिलाते हुए उसने कई असुरों को पकड़कर उनके पेट फाड़कर उनका रक्त पी डाला। इस प्रकार देवी के उस महा बलवान सिंह ने क्षणभर में असुर सेना को समाप्त कर दिया। शुम्भ ने जब यह सुना कि देवी ने धूम्रलोचन असुर को मार डाला है और उसके सिंह ने सारी सेना का संहार कर डाला है तब उसको बड़ा क्रोध आया। उसके मारे क्रोध के ओंठ फड़कने लगे और उसने चण्ड तथा मुण्ड नामक महा असुरों को आज्ञा दी-हे चण्ड! हे मुण्ड! तुम अपने साथ एक बड़ी सेना लेकर वहाँ जाओ और उस देवी के बाल पकड़कर उसे बाँधकर तुरन्त यहाँ ले आओ। यदि उसको यहाँ लाने में किसी प्रकार का सन्देह हो तो अपनी सेना सहित उससे लड़ते हुए उसको मार डालो और जब वह दुष्टा और उसका सिंह दोनो मारे जावें, तब भी उसको बाँधकर यहाँ ले आना।


Durga Saptashti Chapter 1- श्री दुर्गा सप्तशती पहला अध्याय

Durga Saptashti Chapter 2- श्री दुर्गा सप्तशती दूसरा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 3- श्री दुर्गा सप्तशती तीसरा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 4- श्री दुर्गा सप्तशती चौथा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 5- श्री दुर्गा सप्तशती पांचवा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 6- श्री दुर्गा सप्तशती छठा अध्याय

Durga Saptashti Chapter 7- श्री दुर्गा सप्तशती सातवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 8- श्री दुर्गा सप्तशती सातवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 9- श्री दुर्गा सप्तशती आठवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 10- श्री दुर्गा सप्तशती नवां अध्याय

Durga Saptashti Chapter 11- श्री दुर्गा सप्तशती दसवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 12- श्री दुर्गा सप्तशती ग्यारहवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 13- श्री दुर्गा सप्तशती बारहवाँ अध्याय

Published

Leave a comment

Your email address will not be published.