लाडकड़ी लाडेसर म्हारी जीण बाईसा भजन लिरिक्स

Bhajan Diary

लाडकड़ी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा,
ओ था बिन आंगणियो,
सुनो सुनो लागे ओ बाईसा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।



थारो बीरो थासु अरदास करे,

ओ मारी माकी जाइ जामण जाइ,
घरा पधारो चलो ओ बाई सा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।



म्हासु रे भावजड़ी रो तानो,

सयो ना गयो,
जारी लागी कटारी काळजी में,
सुण जो ओ बीरो सा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।



थारी रे भावज ने घरासू काड देउला,

ओ थाने सुमरण थाल,
हाथा सू जिमाऊ ओ भाई सा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।



नहीं म्हारा बीरा पाछी नहीं जाऊली,

मैं तो सुरजी सामी,
अटल प्रतिज्ञा लिनी ओ बीरूसा,
मैं तो अखण्ड कवारी,
रेस्यू माता ने भजसु रे बीरो सा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।



लाडकड़ी लाडेसर म्हारी,

जीण बाईसा,
ओ था बिन आंगणियो,
सुनो सुनो लागे ओ बाईसा,
लाडकडी लाडेसर म्हारी,
जीण बाईसा।।

स्वर – रमा कुमारी जी।
प्रेषक – गणेश कुमार प्रजापत।
फतेहपुर सेखावटी 9929318271


Published

Leave a comment

Your email address will not be published.