थारे रहता ओ सांवरिया डरने की के बात जी भजन लिरिक्स

Bhajan Diary

थारे रहता ओ सांवरिया,
डरने की के बात जी,
नाम जपूँ मैं निशदिन थारो,
नाम जपूँ मैं निशदिन थारो,
दिन हो चाहे रात जी,
थारे रहता ओ साँवरिया,
डरने की के बात जी।।

तर्ज – नगरी नगरी द्वारे द्वारे।



जद भी नाम रटूं मैं थारो,

ओ खाटू का श्याम जी,
कट जावे संकट की घड़ियाँ,
हो जावे आराम जी,
मन में है विश्वास एक बस,
मन में है विश्वास एक बस,
थे हो म्हारे साथ जी,
थारे रहता ओ साँवरिया,
डरने की के बात जी।।



घर की सारी खुशियां बाबा,

थारे दर सु पायो हूँ,
भूल के सारी दुनियादारी,
सेवा मांगण आयो हूँ,
दे दो थारी चरण चाकरी,
दे दो थारी चरण चाकरी,
टेकु थाने माथ जी,
थारे रहता ओ साँवरिया,
डरने की के बात जी।।



अरज करे हारे के सागे,

‘सुरेश राजस्थानी’,
थारी दया से चाले बाबा,
म्हारो दानो पानी,
थासु कुछ भी छुपी ही कोन्या,
थासु कुछ भी छुपी ही कोन्या,
बाबा म्हारी बात जी,
Bhajan Diary Lyrics,
थारे रहता ओ साँवरिया,
डरने की के बात जी।।



थारे रहता ओ सांवरिया,

डरने की के बात जी,
नाम जपूँ मैं निशदिन थारो,
नाम जपूँ मैं निशदिन थारो,
दिन हो चाहे रात जी,
थारे रहता ओ साँवरिया,
डरने की के बात जी।।

Singer – Gopal Sharma Haare


Published

Leave a comment

Your email address will not be published.