तेरे दरबार में सर झुकाती रहूं श्याम लिरिक्स | Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics

Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics


श्याम बाबा का एक अद्बुध भजन “तेरे दरबार में सर झुकाती रहूं श्याम लिरिक्स | Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics” पूर्वा जी के द्वारा गाया हुआ है। इनकी भक्ति से श्याम जी की कृपा बनी रहती है। बाबा श्याम अपने भक्तो पर अपना आशीर्वाद बनाये रखते है।


Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics

रुतबा ये मेरे सर को, तेरे दर से मिला है,
हालांकि ये सर भी, तेरे दर से मिला है ।
औरो को जो मिला है, मुक्क्दर से मिला है,
मुझको मुक्कदर भी श्याम, तेरे दर से मिला है।

तेरे दरबार में सर झुकाती रहूं ।
तू बुलाता रहे और मैं आती रहूं।।

तेरे चरणों की सेवा, और भक्ति मिले,
तेरे चरणों में रहकर, ही मुक्ति मिले ।
मन के मंदिर में, तुझको सजाती रहूं,
तू बुलाता रहे और मैं आती रहूं।।

नाम से तेरे मुझको, है शोहरत मिली,
मुझको दौलत भी, तेरी बदौलत मिली ।
कर कृपा मान, सम्मान पाती रहूं,
तू बुलाता रहे और मैं आती रहूं।।

आरजू दिल की चौखट, ना छूटे कभी,
तार तुझसे जुड़ा, वो ना टूटे कभी ।
सांसे जब तक चले, भजन गाती रहूं,
तू बुलाता रहे और मैं आती रहूं।।

तेरे दरबार में सर झुकाती रहूँ ।
तू बुलाता रहे और मैं आती रहूं।।


हमें उम्मीद है की श्याम जी के भक्तो को यह आर्टिकल “तेरे दरबार में सर झुकाती रहूं श्याम लिरिक्स | Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Tere Darbaar Me Sar Jhukati Rahu Shyam Lyrics ” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए FreeLyrics.in पर visit करे।

Published

Leave a comment

Your email address will not be published.