तुम रूठी रहो – Tum Roothi Raho Lyrics in Hindi – Lyrics in Hindi

तुम रूठी रहो
मैं मनाता रहूँ
के इन अदाओं पे
और प्यार आता है

थोड़े शिकवे भी हों
कुछ शिकायत भी हों
तो मज़ा जीने का
और भी आता है

हाय दिल को चुराकर ले गया
मुँह छुपा लेना हम से वो आपका
देखना वो बिगड़ कर फिर हमें
और दाँतों में ऊँगली का दाबना
ओ मुझे तेरी कसम
ये ही समां मार गया
इसी जलवे पे तेरे
दोनों जहां हार गया
तुम रूठी रहो…

ये न समझो कि तुमसे दूर हूँ
तेरे जीवन की प्यार भरी आस हूँ
चाँद के संग जैसे है चाँदनी
वैसे मैं भी तेरे दिल के पास हूँ
हाय वो दिल ही नहीं
जो न धड़कना जाने
और दिलदार नहीं
जो न तड़पना जाने
थोड़े शिकवे भी हों…

चाहे कोई डगर हो प्यार की
ख़तम होगी ना तेरी-मेरी दास्तताँ
दिल जलेगा तो होगी रोशनी
तेरे दिल में बनाया मैंने आशियाँ
ओ शरद पूनम की
रंग भरी चाँदनी
मेरी सब कुछ
मेरी तक़दीर, मेरी ज़िन्दगी
तुम रूठी रहो…

Published

Leave a comment

Your email address will not be published.