जन गन मन Jann Gann Mann Lyrics in Hindi – Lyrics in Hindi

हो माई तू मेरी दुनिया रे
तेरे अंचल में भर दूं तारे
हो माई तू मेरी दुनिया रे
तेरे अंचल में भर दूं तारे

शान तेरी न कम होने देंगे वतन
नाम ले ले के तेरा जियेंगे वतन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

हर तिनका तेरी ज़मीन का
चूमता है गगन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

ये देश हैं अलबेलों का
मतवाले यहां रहते हैं
मिट जाये तीरंगे पे जो
वो जियाले यहां रहते हैं

दुनिया में सिर्फ हम ही हैं
जो मुल्क को मां कहते हैं
दुनिया में सिर्फ हम ही हैं
जो मुल्क को मां कहते हैं

हो तेरी माटी तिलक है मेरा
ऐ माँ तुझे नमन

तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मर मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जान गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जान गन मन
कन कन में भारत माँ

जहान आंख में होगा पानी
जहां ज़ुलम के मौसम होंगे
बरूद लिए सीने में
मौजूद वहां हम होंगे

बाज़ू भी बोहत हैं सर भी
कटने से कहां कम होंगे
बाज़ू भी बोहत हैं सर भी
कटने से कहां कम होंगे

ताल तेरे घर से निकले
हैं बांध कर कफन

तेरी ममता पे हम
मार मिटेंगे वतन
तेरी ममता पे हम
मार मिटेंगे वतन

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

मेरा तन मन धन
बस जन गन मन
कन कन में भारत माँ

Published

Leave a comment

Your email address will not be published.