कतल Qatal Lyrics In Hindi – Manavgeet Gill, Gurlez Akhtar – Lyrics in Hindi



कतल Qatal Lyrics In Hindi – Manavgeet Gill, Gurlez Akhtar

खुण्डा उत्ते होण चर्चे
साल टपगी तू सोहणीये 18
साधां जहे वेल्ली हो गए
फिक्क पैगी विच जुन्डी देया यारा

फोटो तेरी वेख वेख के
फोटो तेरी वेख वेख के
केहन रूप तेरे दा ना कोई साहनी

क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े

पट्टे तेरे गोरे रंग दे
मुण्डे ठेकेया ते Peg खड़कौन्दे
लाके ऊँची हेक बल्लिये
तेरा नां ले लैके गीत गौंदे

गल्ल मेरी Note करले
गल्ल मेरी Note करले
नी तू छड्डेगी कराके कोई हानी

क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े

पौणा नू सुरूर चढ़ जे
जद कोठे उत्ते बाल मैं सुखावां
हुसन ख़ज़ाना हानियाँ
वे समझ ना किथे मैं लुकावां

हाड़ा हाड़ा रेहँदी डरदी
हाड़ा हाड़ा रेहँदी डरदी
कोई चंदरा ना करजे शैतानी

हिस्से आउ भागां वाले दे
रंग गोरा मेरी चड़दी जवानी
हिस्से आउ भागां वाले दे
रंग गोरा मेरी चड़दी जवानी
हिस्से आउ भागां वाले दे

नी इक तेरी यारी बदले
बैठे दाव उत्ते लायी सब जानां
Fire चले लख नाल नी
तेरे पिंड खड़कीआ किरपाना

धारा लग्गी गिल्ल ते कूड़े
धारा लग्गी गिल्ल ते कूड़े
जींद चौब्बर दी हो गयी वीरानी

क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े

शुभ शुभ बोल वैरियां
वे मेरा नरम कालजा डोले
हिक्क नाल लावां यारियां
परां करके कबूतर बोले

वे तक्क तक्क रूह ना रज्जदी
मेरी सुनदी दी रूह ना रज्जदी
होई मानवगीत दी दीवानी

हिस्से आउ भागां वाले दे
रंग गोरा मेरी चड़दी जवानी
हिस्से आउ भागां वाले दे
रंग गोरा मेरी चड़दी जवानी

क़तल कराऊ अल्हड़े
तेरी नागां जेहि तौर मस्तानी
क़तल कराऊ अल्हड़े

Published

Leave a comment

Your email address will not be published.